Home

स्वरचित रचनाओं के संग्रहण में आपका स्वागत है 🙏

Latest from the Blog

मेरा आशिक

कोरोना जैसी बीमारी को नजदीक से देख एक विचार मेरे भीतर उठ आया है,ये कोरोना नहीं शायद मेरा कोई आशिक है जो मुझसे मिलने का मन बना कर आया है।अपना पूरा नियंत्रण मुझ पर करके देखो तो कितना इठला रहा है,मुझे अपने साथ एक कमरे में कैद करके कैसे जीत की खुशियां मना रहा हैContinue reading “मेरा आशिक”

जन्मदिवस

आभार उस परमपिता परमेश्वर का जिसने दिया हमें अनुपम उपहार।जिसको पाकर धन्य हुआ जीवन और मिला असीम खुशियों का भण्डार।जिसने जन्म लेकर बसा दिया हमारे परिवार के लिए उल्लसित नव संसार।दिल हो गया बाग – बाग और भर गया सुख शान्ति का असीम भण्डार। बेटे के चेहरे पर फैली मुस्कान ही तो है हमारे सपनोंContinue reading “जन्मदिवस”

‘मां की महिमा’

मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई के साथ अपनी मां के प्रति अपार स्नेह के साथ स्वरचित कविता प्रेषित है:- मां करुणा का सागर अपने में कर समाहित,हम पर सदा वात्सल्य का अमृत रस बरसाती है ।मां सुखों का कर त्याग, बच्चों के लिए रात-रात भर जाग,बच्चों को मधुर लोरी संग प्यार भरी थपकियांContinue reading “‘मां की महिमा’”

मंगल बधाइयाँ

खूबसूरत ख्वाब बन हमारे जीवन को,महकाने वाली मेरी बिटिया रानी प्यारी ।यह है ईश्वर का असीम वरदान जो मिली,हमें ऐसी प्यारी परियों सी राजदुलारी। सूरज की किरणों सा तेज अपने में किया ,समाहित जिस पर जाऊँ मैं बलिहारी।चांदनी जैसी शीतलता सा अहसास,दिलाकर बन गई तू सबकी प्यारी । धन्य कर दिया जीवन हम सबका ,ईश्वरContinue reading “मंगल बधाइयाँ”

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

Connect with me via

मेरी नयी रचनाओं को सीधे ईमेल में प्राप्त करने हेतु कृपया सब्सक्राइब करे