“असली खुशी”

आज रजनी की खुशी का ठिकाना नहीं था। उसकी इकलौती बेटी चिंकी का आज जन्मदिन था। वह सुबह से ही इस उधेड़ बुन में थी कि वह अपनी बेटी को आज क्या तोहफ़ा देगी? उसने कई बार अपने पति राजीव से इस संबंध में बात की, परन्तु उसे कोई संतोष जनक जवाब नहीं मिल पाContinue reading ““असली खुशी””

कठोर फैसला

रामी आज बहुत खुश है, उसके घर बरसों बाद एक किलकारी गूंजी है। रामी की शादी को लगभग दस साल गुजर चुके थे। उसने दुनिया भर के इलाज,जादू, टोना सब कुछ कर लिया था। वह अपनी सास और समाज के लोगों के ताने सुन सुन कर परेशान हो चुकी थी। अंत में उसने यह मानContinue reading “कठोर फैसला”

सपना

रानी का मन आज किसी काम में नहीं लग रहा था। सोच रही थी कि कब उसकी नानी आएंगी और कब वह उसके साथ खेलेंगी। विगत दिनों नानी के साथ बिताए पल उसे याद आ रहे थे और वह रोमांचित हो रही थी। नानी के विषय में सोचते सोचते उसे कब नींद लग गई पताContinue reading “सपना”

बात पते की

लघुकथा आज घर में बहुत काम है, दोपहर तक मेहमान आने वाले हैं, सारी तैयारी अभी बची हैं, काम के लिए रानी भी अभी तक नहीं आई है…. ऐसे ही अनेक प्रश्नों के आने जाने का सिलसिला रोहिणी के दिमाग में चल रहा था। उसे देखकर हर कोई ये बात समझ सकता था कि उसेContinue reading “बात पते की”

लघुकथा

एक समाधान ऐसा भी सुधा आज कुछ चहकते हुए रवि को अपने मन में उठने वाले विचारों से अवगत कराने को व्याकुल हो रही थी। रवि उस समय अपने विचारों में इस तरह डूबा हुआ था कि उसे यह आभास ही नहीं हुआ कि सुधा उसके पास आकार कुछ कह रही है। रवि विचारों केContinue reading “लघुकथा”